सोमवार, 17 मई 2010

सभी आम ब्लोगरों,कानून से जुड़े ब्लोगरों और पत्रकार ब्लोगरों से इंसानियत के नाते एक प्रार्थना --------

आदरणीय ब्लोगर बंधू
सादर आभार और बड़ों को नमस्कार ,

विषय - इंसानियत पर हैवानों द्वारा हमला कर जान से मारने के प्रयास के खिलाप आवाज और समुचित जाँच कर दोषियों को हर हाल में सजा दिलाने के सामूहिक प्रयास की अपील-----


13 /05 /2010 के रात लगभग 08:30 बजे रात्रि में श्री V.R.VAISH के शांति अपार्टमेन्ट के फ्लेट नंबर -117 में घुसकर कुछ अज्ञात बदमाशों ने उनके ऊपर जान लेवा हमला किया ,ये हमला उनकी जान लेने के उद्देश्य से ही की गयी ,लेकिन सौभाग्यवश, हमला घातक होने के बाबजूद ,जान ऊपर वाले की रहम से बच गयी / श्री VAISH में कुछ मानवीय कमजोरियां आम इन्सान की ही तरह हो सकती है, लेकिन मैं इतना पूरे दावे के साथ कह सकता हूँ की श्री VAISH चरित्रवान ,निडर और अन्याय के खिलाप आवाज उठाने में हमेशा आगे रहे है और जो कुछ गुंडा और हरामी टायप लोगों को पसंद नहीं है / इसी गुंडा और असामाजिक लोगों ने इनको जान से मारने का प्रयास किया है / श्री VAISH इस समय पीतमपुरा के मेक्स अस्पताल में भर्ती हैं / मेरा श्री VAISH से कोई सम्बन्ध नहीं है सिवाय एक इंसानियत के /

                                   
                          अतः हम  चाहते  हैं  की आप लोग अपने संपर्क के मिडिया या खुद श्री VAISH से मिलकर श्री VAISH को दर्दनाक मौत देने का प्रयास करने वालों को पकड़ने और उसे सजा देने के लिए DCP नोर्थ-वेस्ट दिल्ली, कमिश्नर दिल्ली पुलिस,सीबीआई और गृह मंत्रालय को आग्रह करें और दोषियों को सजा देने के लिए बाध्य करने का सामूहिक प्रयास करें / क्योकि ये हमला इंसानियत पे हमला है /
                                        
                            श्री VAISH का फोन नंबर है -09811163892 और 011 - 27787615 है ,इनका पता है फ्लेट नंबर -117 ,शांति अपार्टमेन्ट,सेक्टर-A -5 ,पॉकेट-13 ,नरेला ,दिल्ली-40 ,आप इनसे मिलने के लिए GT KARNAL रोड से नरेला सेक्टर A -5 ,आ सकते हैं ,बस अड्डा दिल्ली से DTC की 120 नंबर और 131 नंबर बस की बहुत ज्यादा सेवा है जो १:३० घंटे में नरेला सेक्टर A -5 ,पहुंचा देगी / हम चाहते है की आपलोग इनसे मिलकर तहकीकात करें और उसकी रिपोर्ट के साथ दिल्ली पुलिस और अन्य जाँच एजेंसियों को मानवता के आधार पर सख्त कार्यवाही के लिए जरूर लिखें /
                                          
                                               इंसानियत पे हमला शर्मनाक है और ऐसा करने वालों को सख्त सजा दिलाना हम सब का दायित्व और कर्तव्य है / आज कल बिना सामूहिक प्रयास के इस भ्रष्ट व्यवस्था में न्याय मिलना असंभव है और हमलोगों के ऐसा नहीं करने से ही अपराधियों और असामाजिक तत्वों के ताकत को बढ़ावा मिलता है तथा इंसानियत शर्मसार हो रही है /आशा है आप लोग अपने-अपने ढंग से श्री VAISH को न्याय और सुरक्षा दिलाने का प्रयास जरूर करेंगे / उनसे मिलने में अगर आपका कुछ कीमती वक्त और पैसा खर्च होता है तो उसे इंसानियत की रक्षा पे किया गया खर्च समझ ,इस खर्च को सार्थक समझें / आशा है इंसानियत की रक्षा के लिए आप लोग एकजुट होकर आगे जरूर आयेंगे /

10 टिप्‍पणियां:

  1. जरूर लिखेंगे जी!
    आप सब भी लिखिए!
    मानवता का प्रश्न है यह तो!

    उत्तर देंहटाएं
  2. "इंसानियत पे हमला शर्मनाक है और ऐसा करने वालों को सख्त सजा दिलाना हम सब का दायित्व और कर्तव्य है"

    बिल्कुल सही कहा आपने। हम सभी मिलकर प्रयास करेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसी घटनायें बन्द होनी चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ऎसी घटनाये बन्द होनी चाहिये, अगर आप इ मेल आई दी देते पुलिस की तो हम मेल से उन्हे भी अपनी बात कह सकते इस के बारे, बहुत सुंदर लेख

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपका प्रयास सचमुच ही सराहनीय है. मैं स्वयं भी इस कार्य में पूर्ण रूप से सहयोग के लिए तैयार हूँ. अवश्य ही श्री Vaish जी से संपर्क करूँगा. यह जानकारी देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. MITR,

    AGAR AAP VAJAH BATAYE KI HAMLA KISANE AUR KIN WAJAHO SE KIYA TO MAI SWAYAM POLICE COMMISSIONER TAK APKI BAAT PAHUCHA SAKTA HU.

    HAMLE KA KARAN SPASHT NAHI HAI.

    उत्तर देंहटाएं
  7. मेरी वैश जी एवं उनकी पत्नी से बात हुई है, मैंने उन्हें हर संभव मदद पहुँचाने का वादा किया है. उनकी आवाज़ को मीडिया तक पहुँचाने की कोशिश करूँगा. आपके लेख पर लिखा गया मेरा लेख पढ़ें.

    "इंसानियत पर हैवानी हमला"
    http://premras.blogspot.com/2010/05/blog-post_17.html

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुभाष जी आपका प्रोफाइल सार्वजनिक नहीं है ,अगर आप वाकई श्री वेश्य जी और इंसानियत की सच्ची मदद करना चाहते हैं तो, श्री वेश्य के मोबाइल पर बात कर लें या मुझे अपना परिचय देकर मुझसे किसी भी वक्त बात कर वजह जान सकते हैं / वैसे एक शब्द में मैं इतना की कह सकता हूँ की यह सच्ची अभिव्यक्ति और किसी के अन्याय के खिलाप उठे आवाज पर हमला है और ऐसा दिल्ली में हर जगह हो रहा है जिसके खिलाप हम लोगों को एकजुट होने की जरूरत है /

    उत्तर देंहटाएं
  9. सही कह रहे हैं आप. रोज रोज ही ऐसी घटनाएं आ रही हैं।

    उत्तर देंहटाएं